Koo App क्या है, Koo App का उपयोग कैसे कर सकते हैं

0
13
Koo App In Hindi
Koo App In Hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम हमारी इस पोस्ट के माध्यम से आपको Koo App के बारे में बताएंगे. Koo क्या है, और आप Koo एप पर अकाउंट बनाकर, इसका कैसे उपयोग कर सकते है। अगर आपको इसके बारे में कोई विशेष जानकारी नहीं है, तो आप हमारी इस पोस्ट को ध्यान पूर्वक पढ़ते रहिए। हम आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से Koo के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं।

डाटा लीक की समस्याओं के चलते और विदेशी कंपनियों के मनमर्जी बर्ताव के कारण अब भारत में भारतीय एप्स का उपयोग और निर्माण काफी अधिक बढ़ गया है। टिक टॉक और पब्जी जैसे चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाने के बाद अब भारत में निर्मित एप्स की मांग भी बढ़ी है।

इसलिए अभी टि्वटर जो कि एक लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग साइट है, उसका भारतीय अल्टरनेटिव Koo App मार्केट में आया है। अभी हाल ही में इसका यूजर बेस काफी अधिक बढ़ गया है, क्योंकि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में Koo App के बारे में बताया है।

Koo ऐप क्या है- 

Koo ऐप सोशल नेटवर्किंग साइट जिसे 2020 की शुरुआत में सबसे पहले लांच किया गया था। इसका निर्माण अप्पम्या राधाकृष्ण ने किया जिन्होंने पहले एक ऑनलाइन कैब बुकिंग सेवा टैक्सीफोरसुर का भी निर्माण किया था, जिसे बाद में उन्होंने ओला कैब्स को बेच दिया। उन्होंने अपने Koo App के लिए आत्मनिर्भर भारत ऐप इनोवेशन चैलेंज का पुरस्कार भी जीता है।

कू ऐप भी पॉपुलर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर की तरह ही एक माइक्रो ब्लॉगिंग साइट है। जिसे भारत में ट्विटर का भारतीय अल्टरनेटिव माना जा रहा है। अभी कुछ ही दिनों में इसका यूजर बेस करीब 50 गुना तक बढ़ गया है, क्योंकि इसके बारे में मन की बात कार्यक्रम में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चर्चा की थी।

आत्म निर्भर भारत एप इन्नोवेशन चैलेंज-

भारत सरकार ने भारत में एप और गेम डेवलपमेंट को बढ़ावा देने और विदेशी एप्स और गेम्स के भारत में बढ़ रहे प्रभाव को कम करने के लिए आत्मनिर्भर भारत ऐप इन्नोवेशन चैलेंज शुरू किया है। इसे भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा की चिंता के मद्देनजर टिक टॉक, पब्जी शेयर चैट जैसे सैकड़ों चाइनीज ऐप्स को बेन करने के बाद भारत में भारतीय एप्स के निर्माण पर बल देने के लिए शुरू किया गया है।

केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनज़र सैकड़ों चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाने के बाद भारत में भारतीय एप्स के निर्माण कार्य में काफी अधिक वृद्धि हुई है। चाइनीस एप्स टिक टॉक के अल्टरनेटिव के रूप में भारत में जोश और चिंगारी एक का निर्माण किया गया है। जिन्होंने आत्मनिर्भर भारत एप इन्नोवेशन चैलेंज में हिस्सा लिया और टिक टॉक के अल्टरनेटिव के रूप में चैलेंज जीता है।

भारत में अब  भारत में निर्मित भारतीय गेम्स का निर्माण भी किया जाने लगा है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण गणतंत्र दिवस के अवसर पर लॉन्च किया गया फौजी गेम है। जिसे पब्जी के बाद यूजर्स के द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है। फौजी गेम को लांच के 2 दिन के अंदर ही गूगल प्ले स्टोर पर फ्री गेम्स की लिस्ट में ट्रेंडिंग नंबर 1 पर पहुंचा दिया था।

Koo के कुछ खास फीचर्स –

Koo ऐप का यूजर इंटरफेस माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर की तरह है। इसमें भी ट्विटर के समान ही यूजर अपने पसंदीदा लोगों को फॉलो कर सकते हैं, और उन्हें भी किसी के द्वारा फॉलो किया जा सकता है। कू ऐप में टेक्स्ट मैसेज शेयर करने के साथ ही फोटो और वीडियोस को भी शेयर किया जा सकता है।

इसके अलावा कू ऐप में टेक्स्ट मैसेज के साथ किसी अन्य प्लेटफार्म का लिंक भी शेयर किया जा सकता है। इसके अलावा कू ऐप में ट्विटर से अलग अभी फिलहाल इंग्लिश के साथ ही तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और हिंदी जैसे कुछ क्षेत्रीय भाषाओं को भी सपोर्ट करता है।

इन भाषाओं में यूजर टेक्स्ट मैसेज शेयर कर सकते हैं। इन सभी के अतिरिक्त ट्विटर से अलग इसमें टेक्स्ट मैसेज की वर्ड लिमिट 400 कैरेक्टर  है, जबकि ट्विटर में यह वर्ड लिमिट सिर्फ 240 कैरेक्टर ही है।

Koo को भारत सरकार का समर्थन –

हमने आपको पहले ही बताया है, कि सबसे पहले कू ऐप को मार्च 2020 में लांच किया गया था। लेकिन उस समय बहुत ही कम लोग इससे जुड़ पाए थे। अभी कुछ दिनों पहले तक लोग कू ऐप के बारे में जानते  भी नहीं थे।

लेकिन अभी किसान आंदोलन के चलते ट्विटर द्वारा सरकार की ओर से दिए गए कुछ अकाउंट की नीलामी से संबंधित आदेश की अवमानना के बाद ट्विटर का विरोध किया जा रहा है। लोगों का ध्यान कू एप की ओर आकर्षित करने के लिए केंद्र सरकार के कई मंत्रियों ने कू ऐप पर अकाउंट बनाकर इसका समर्थन किया है।

ट्विटर द्वारा केंद्र सरकार के आदेश की अवहेलना के बाद ट्विटर यूजर्स अब कू ऐप को ज्वाइन कर रहे हैं। मन की बात कार्यक्रम के बाद Koo App इतनी चर्चा में है, कि ट्विटर पर ही ट्रेंड कर रहा है।

Fastag क्या है, और फास्टैग कैसे लगाएं

UPI क्या है, UPI का उपयोग कैसे कर सकते हैं?

PayTM क्या है, PayTM से पैसे कैसे कमा सकते हैं?

निष्कर्ष

हमने आपको आज की पोस्ट के माध्यम से Koo के बारे में बताया है कि Koo क्या है, और आप Koo पर अकाउंट बनाकर, इसका कैसे उपयोग कर सकते है। अब आपको इसके बारे में पता चल गया होगा कि यह एक Made In India ऐप है।

जिसने आत्मनिर्भर भारत ऐप इन्नोवेशन चैलेंज का पुरस्कार भी जीता है, इसलिए आप इसका उपयोग कर सकते हैं। इसी प्रकार के टेक्नोलॉजी से रिलेटेड और अधिक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट के साथ जुड़े रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here